Newstimes Post

बदहाल व्यवस्था, बेहाल स्वास्थ्य


यह कहना गलत नहीं होगा कि समूचे उत्तर प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था इस समय स्ट्रेचर पर है जबकि प्रत्येक जनप्रिय सरकार का सपना होता है कि उसके निजाम में आम आदमी को सस्ती और सरल स्वास्थ्य सेवायें हासिल हो सकें। हालात तो यह हैं कि प्रदेश का जन स्वास्थ्य स्वयं ही डायलेसिस पर है। डाक्टर की फीस और अस्पताल के बिल का खतरा आज देश के हर साधारण परिवार के सिर पर तलवार की तरह मंडरा रहा है। सरकार न तो सस्ता और अच्छा इलाज करवा पा रही है, न ही प्राइवेट इलाज में लोगों की मदद कर पा रही है।

 

बदहाल व्यवस्था, बेहाल स्वास्थ्य

 

 

यह कहना गलत नहीं होगा कि समूचे उत्तर प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था इस समय स्ट्रेचर पर है जबकि प्रत्येक जनप्रिय सरकार का सपना होता है कि उसके निजाम में आम आदमी को सस्ती और सरल स्वास्थ्य सेवायें हासिल हो सकें। हालात तो यह हैं कि प्रदेश का जन स्वास्थ्य स्वयं ही डायलेसिस पर है। डाक्टर की फीस और अस्पताल के बिल का खतरा आज देश के हर साधारण परिवार के सिर पर तलवार की तरह मंडरा रहा है। सरकार न तो सस्ता और अच्छा इलाज करवा पा रही है, न ही प्राइवेट इलाज में लोगों की मदद कर पा रही है।

 

 

X

लिंक भेजें

Image Client
न्यूज़ टाइम्स पोस्ट पत्रिका देखी एवं पढ़ी। काफी अच्छा प्रयास है। अन्य पत्रिकाओं की अपेक्षा कुछ अलग करने का प्रयास सराहनीय है। लेखों के चयन में गंभीरता है। डिज़ाइनिंग पक्ष ठीक है।

- प्रदीप कुमार पाल, सीनियर सब एडिटर -

Image Client
न्यूज़ टाइम्स पोस्ट सिर्फ एक पत्रिका न होकर एक मिशन है. प्रत्येक अंक एक खास मुद्दे को समर्पित रहता है, यह बात न्यूज़ टाइम्स पोस्ट को अन्य पत्रिकाओं की भेड़ चाल से अलग कर देता है। इसकी एक खास बात और है कि पत्रिका के प्रत्येक आलेख में स्त्री विमर्श अवश्य रहता है. अभी तक की पत्रकारिता में जनता सिर्फ पाठक होती थी किन्तु न्यूज़ टाइम्स पोस्ट में जनता साझीदार होती है.उसकी टिप्पड़ी को तस्वीर व मोबाइल न. समेत प्रकाशित किया जाता है, यह न्यूज़ टाइम्स की अविस्मरणीय पहल है.

- प्रणय विक्रम सिंह, एसोसिएट एडिटर, न्यूजटाइम्स पोस्ट -

Image Client
अनंत का निर्देश आत्मा की अकुलाहट अंक बहुत अच्छा है इस अंक का “ईश्वर तो भेद नहीं करता “ व “तारे जमीं पर” “जज्बे को सलाम” काफी सराहनीय है . यह पत्रिका समाज को एक अच्छा सन्देश देती है, रामकृष्ण वाजपेयी के लेख ने समाज की सोच को खूबी के साथ व्यक्त किया है। शायद जो मानसिक मंदितों को पागल समझते हैं वो ही पागल हैं।

- इलाही बख्श अंसारी, सिस्टम इंजीनियर -

Image Client
As I started following the magazine I realized that there is a world beyond what we see or rather we are made to see by the other media feeds. Newstimes Post is a far way better feed than others as it makes us, the common people, aware about the social realities. You guys are going in a right spirit, keep up the good work.

- अम्बरीन ज़हरा, एसोसिएट कोऑर्डिनेटर, डिजिटल स्कूल (BATTOL) -

Image Client
न्यूज़ टाइम्स पोस्ट पत्रिका अपने आप में एक नया कांसेप्ट है. हर अंक एक नए विषय और स्थानीय समस्याओं को समेटे ज्ञानवर्धक होने के साथ -साथ मनोरंजक भी है। पत्रिका में स्थानीय लोगों की सीधी भागीदारी ने उत्साह बढ़ाया है. न्यूजटाइम्स पोस्ट आम आदमी का मंच बन चुकी है.

- अतहर रज़ा, फोटोजर्नलिस्ट, लखनऊ -

Image Client
न्यूजटाइम्स पोस्ट की पूरी टीम को बधाई। मौजूदा अंक अनन्त का निर्देश आत्मा की अकुलाहट यथार्थ में आत्मा को छू गया। न्यूजटाइम्स पोस्ट की यह पहल अत्यंत उम्दा है।

- राजीव रत्न दीक्षित, सामाजिक कार्यकर्ता -

Image Client
न्यूजटाइम्स पोस्ट ने एक बार फिर अच्छा मुद्दा उठाया है। मुझे खुशी है कि इस तरह के गम्भीर विषयों को आगे भी न्यूजटाइम्स उठायेंगा। दिव्यांगो की समस्या को आम जन तक पहुंचाकर एक साराहनीय कदम उठाया है।

- पीयूष कान्त मिश्र, अध्यक्ष, यूनाइट फाउण्डेशन -

Image Client
अनन्त का निर्देश, आत्मा की अकुलाहट का अंक बेहद शानदार था। मुझे लगता है कि पाठकों के लिए यह अंक बेहद यादगार है, क्योंकि बहुत कम लोग इस तरह के विषय को उठाते हैं। मुझे उम्मीद है कि न्यूजटाइम्स पोस्ट भी आगे इसी तरह के गम्भीर विषयों को उठाता रहेगा।

- संजय द्विवेदी, पत्रकार, सोनभद्र -

Image Client
न्यूजटाइम्स पोस्ट ने आत्मा की अकुलाहट अंक में दिव्यांगों के लिए बहुत अच्छी कवरेज की है। मैं इसके लिए न्यूजटाइम्स पोस्ट की पूरी टीम को बधाई देती हूं ...थ्री चीयर्स....

- स्वाति शर्मा, प्रिंसिपल, आशा ज्योति स्कूल, इंदिरा नगर, लखनऊ -

Image Client
न्यूजटाइम्स पोस्ट का पिछला अंक बेहद शानदार था। लगने लगा है कि पत्रकारिता के दामन मे अब स्वस्थ और स्वच्छ सामग्री को जगह देने की गुजायश बिलकुल खत्म हो गयी है। न्यूजटाइम्स ने आशा कि किरण दिखाकर यह मिथ्य तोड़ दिया। दिलो-दिमाग से लेकर रूह को गिजा देने वाला यह अंक आज की सिसकती हुई पत्रकारिता को आक्सीजन देनी जैसी है। मुझे आशा है कि न्यूजटाइम्स पोस्ट आने वाले समय में इसी तरह से काम करता रहेगा।

- नावेद शिकोह, वरिष्ठ पत्रकार, लखनऊ -

Image Client
मुझे खुशी है कि न्यूजटाइम्स पोस्ट विशेष खबरों को विस्तार से पेश कर रहा है, जो बेहद अच्छी बात है। सच में यह अंक बेहतरीन है।

- दीपक के एस -